hello@mukhyansh.com

बाणभट्ट की आत्मकथा:हजारीप्रसाद द्विवेदी:मुख्य बिंदु

मेरे जीवन में जो कुछ सार है,वह मेरे पिता का स्नेह है। ऐसा लगता था कि वह पान कम बेचती थी,मुस्कान ज्यादा-(निपुणिका के संदर्भ में) अंगुलियों को मैं

और पढ़ें

(भक्तिकाल-1375-1700) हिंदी साहित्य का इतिहास-आचार्य रामचंद्र शुक्ल: मुख्य अंश

यहाँ आचार्य रामचंद्र शुक्ल के हिंदी साहित्य का इतिहास से भक्तिकाल (1375-1700) के मुख्य अंशों को लिया गया है।

और पढ़ें

हिंदी साहित्य का इतिहास-आचार्य रामचंद्र शुक्ल: मुख्य बिंदु

आदिकाल ◆प्रकरण– सामान्य परिचय 1.)”प्राकृत की अंतिम अपभ्रंश अवस्था से ही हिंदी साहित्य का आविर्भाव माना जा सकता है।”

और पढ़ें

मानस का हंस-अमृतलाल नागर। प्रमुख बिंदु

1.)”घर,गाँव,जन्मभूमि ,यह शब्द बाबा के मन में तीन फांसों से चुभे, व्यंग फूटा,हँसी आई,कहा-“घर घरैतिन के साथ गया।गाँव तुम्हारे नाम से

और पढ़ें

भीगते राम अब नहीं लौटते…

विद्या निवास मिश्र ललित निबन्ध को हिंदी साहित्य में स्वीकृति और सम्मान दिलाने वाले तथा लोक संस्कृति को जिलाए रखने वाले महत्वपूर्ण निबन्धकार हैं।

और पढ़ें

मजदूरी और प्रेम – सरदार पूर्ण सिंह

मज़दूरी और प्रेम नामक निबंध, पूर्ण सिंह जी का न केवल साहित्यिक जगत में बल्कि विश्व जगत में काफ़ी चर्चित निबंध माना जाता है। जिसके मुख्यांश इस

और पढ़ें